Monthly Archives: नवम्बर 2011

जल ही संसार है

जल से संसार है,जल से संसार है,  दोस्तो जल ही जीवन का आधार है जल ही जीवन है यह सबको मालूम है,  फिर भी हमको समझने की दरकार है.. …  जल बचाना तो जीवन बचाना हुआ,  इस तरह जल हमारा … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

ghazalगजल

दर्द से जिंदगी का हासिल है….. दर्द मेरी रगों में शामिल है….. तुम तो कहते हो दर्द को जानों, दर्द बिन जिंदगी ही गाफिल है….. जिसने अनदेखा कर दिया मुझको, क्या वो भी दोस्ती के काबिल है… ये भी हो … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

दोहे

1. गण हुये तन्त्र के हाथ कठपुतलियाँ  अब सुने कौन गणतन्त्र की सिसकियाँ 2. इसलिये आज दुर्दिन पडा देखना  हम रहे करते बस गल्तियाँ-गल्तियाँ 3. चील चिडियाँ सभी खत्म होने लगीं  बस रहीं हर जगह बस्तियाँ-बस्तियाँ 4. पशु-पक्षी जितने थे … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 1 टिप्पणी

ghazal-गजल

दर्द को साध कर जला हूँ मैं इसलिये आज तक भला हूँ मैं झाँक लो कोई भी मेरे अन्दर, आसमाँ की तरह खुला हूँ मैं… देख कर सबको ऐसा लगता है, हर किसी से कहीं मिला हूँ मैं… दर्द को … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियाँ

ghazal-गजल

दर्द को साध कर जला हूँ मैं इसलिये आज तक भला हूँ मैं झाँक लो कोई भी मेरे अन्दर, आसमाँ की तरह खुला हूँ मैं… देख कर सबको ऐसा लगता है, हर किसी से कहीं मिला हूँ मैं… दर्द को … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे