Monthly Archives: जनवरी 2012

speek here

speek here. ….hi read here Advertisements

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

speek here

If you remain silent any thing we met each other going to** yesterday to which we now wo was not between our being,* Let us remember that in its to do some thing we*wo oppression, oppression which are deliberately made,*to … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

burf bari

http://www.punjabkesari.in/epaperimages/812012/812012-md-pb-1/D28876118.JPG

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

my shado is seeing in your eyes

In my eyes saugijana G. people often seem to be*any years old Raj G. There seem to be*crop clouds and cooking has parted hair are engaged,* The farmers if their fields are already visible light G.*yours nightmare there is no … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

the silent cityखामोश शहर

सडकें तो खूब बोलती खामोश शहर है दिन रात जागता है पर बेहोश शहर है अपनी जुबानों पर लगा ताला खुला नहीं, उनके इशारों पर खडा बेजोश शहर है बिजली की तारें घर के किनारों के साथ हैं बाजार जैसे मौत … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 2 टिप्पणियाँ

shahr,शहर

सडकें तो खूब बोलती खामोश शहर है दिन रात जागता है पर बेहोश शहर है अपनी जुबानों पर लगा ताला खुला नहीं, उनके इशारों पर खडा बेजोश शहर है                                           सुजान

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

tarhi ghazal

खामोश ना रहें कोई तो बात हम करें चल एक दूसरे से मुलाकात हम करें कल जो हमारे बीच था अब वो नहीं रहा, आओ कि उसकी याद में कुछ बात हम करें वो जुल्म,जुल्म हैं जो किये जानबूझ कर, … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | Tagged | टिप्पणी करे