Monthly Archives: जनवरी 2019

ग़ज़ल -गण हुए तंत्र के हाथ कठपुतलियाँ

  गण हुए तंत्र के हाथ कठपुतलियाँ अब सुने कौन गणतंत्र की सिसकियाँ इसलिए आज दुर्दिन पड़ा देखना हम रहे करते बस गल्तियाँ गल्तियाँ चील चिड़ियाँ सभी खत्म होने लगीं बस रही हर जगह बस्तियाँ बस्तियाँ जितने पशु पक्षी थे, … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

The driving force in everyone’s life is accurate permanent happiness

Once upon a time, there lived a boy called Jai who was very popular among his family, friends and teachers at school. He was a good leader, a gurade ‘A’ student, an all-rounder and a good role model for all … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे