Category Archives: कवितायें

कविता-ढोल

हम तो ढोल बजाते हैं लोगों को यूँ नचाते हैं जब तन उनका झूम उठे, मन से हम हर्षाते हैं.. कईं बार तो हम गल्ती करके, दूसरों के सामने शर्माते हैं… सारी उम्र पहाड को तोडते हैं, और इक दिन … पढना जारी रखे

कवितायें में प्रकाशित किया गया | Tagged | 1 टिप्पणी