the silent cityखामोश शहर

सडकें तो खूब बोलती खामोश शहर है

दिन रात जागता है पर बेहोश शहर है

अपनी जुबानों पर लगा ताला खुला नहीं,

उनके इशारों पर खडा बेजोश शहर है

बिजली की तारें घर के किनारों के साथ हैं

बाजार जैसे मौत का पुरजोश शहर है

 

                                          सुजान

Advertisements

About kavisujan

hindi poet- i am write hindi ghazals,kavitatorys etc.
यह प्रविष्टि Uncategorized में पोस्ट की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

2 Responses to the silent cityखामोश शहर

  1. vinaydwivedi कहते हैं:

    ताजा गजल खामोश शहर

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s